ज़ाकिया ग़ज़ल


ग़ज़ल

मुन्सिफ़ों सलीबों पर फ़ैसले नहीं होते