ज़का सिद्दीक़ी


दीवान

जीते रहने की सज़ा से
ख़ामोशी ख़ुद अपनी सदा हो