ज़ाहिद


नज़्म

फिर से मौसम बहारों का आने को है