ज़फ़र इक़बाल


दीवान

देखना है वो मुझ पर
नहीं कि मिलने मिलाने का