अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.22.2016


2016

नये साल की
ख़ुशियों में मगन
हम सब
अंजान हैं इससे
कि जवान होती सदी का
बूढ़ा बाप "समय"
चिंता में है,
क्योंकि आतंक से
दहकती इस दुनिया में
उसकी बेटी
अब सोलह (16) की
हो गई है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें