अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.31.2014


स्वीकार कर लो

ज़िंदगी जो भी तुम्हें दे,
हँस कर उसे स्वीकार कर लो!!

ज़िंदगी देती सभी को,
इसलिए लगती है प्यारी!
काँटे मिलें या फूल, ले लो,
ज़िंदगी हमदम तुम्हारी!!

मौत को बस भूल जाओ,
जीवन को अंगीकार कर लो!!

मौत तो सब को डराती,
ज़िंदगी लोरी सुनाती!
सृजन का इक मंत्र देकर,
ईश्वर तुम को बनाती!!

सृजन को अपना बना कर,
ये धरा स्वर्ग समान कर लो!!

अमृत तुम्हारे पास ही है,
पहचान उसकी आज कर लो!
मिट सकेगा मौत का भय,
दिव्यता से हृदय भर लो!!

होगा अमर जीवन तुम्हारा,
कष्टों का सागर पार कर लो!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें