अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.31.2014


प्यार किया है मैंने

प्यार किया है तुमको मैंने ऐसे,
भंवरा हर पल करता फूल को जैसे!

तुम मेरे दिल में हो प्रियतम,
हर पल होता मिलन हमारा!
तुमको जब से पाया मैंने,
लगता तब से यह जग प्यारा!!

प्यार किया है तुमको मैंने ऐसे,
प्यासा चकोर चंदा को करता जैसे!

तुम यादों में रचे-बसे हो मेरी,
हर धड़कन में रहते हो अब तुम ही!
जिधर देखता हूँ मैं, तुम ही तुम हो,
मेरी पलकों में बसते हो अब तुम ही!!

प्यार किया है तुमको मैंने ऐसे,
नदिया करती है सागर से जैसे!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें