अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.25.2014
 

मम्मी मेरा बैग मँगा दो
डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ’अरुण’


मम्मी मेरा बैग मँगा दो,
स्कूल में पढ़ने जाऊँगा!

मिक्कू दीदी रोज़ सबेरे,
बस से अपने स्कूल में जाती!
मैं ही घर में एता रहता,
मुझको तुम क्यों नही पढाती!!

लगा के टाई, बूट पहन के,
मैं भी बाऊ बन जाऊँगा!

रंग-बिरंगी प्यारी-प्यारी,
पोयम की बुक मंगवादों!
पोयम तुम्हे सुनाऊंगा मैं,
याद मुझे भी करवा दो!!

पढ़के मोटी-मोटी पोथी,
पापा जैसा मैं बन जाऊँगा!!

मम्मी बोली, मेरे राजा,
बड़े जरा तुम हो जाओ!
प्यारी सी बुक भी ला दूँगी,
बिल्कुल ना तुम घबराओ!!

मम्मी! मुझको दूध पिलाओ,
फिरतो बड़ा मैं बन जाऊँगा!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें