अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.05.2016


इतने दिनों के प्यार के बाद भी

मैं कितना जानता हूँ तुम्हें
इतने दिनों के प्यार में
क्या जानना बस इतना भर है, कि
तुम्हारा पता, रुचि-अरुचि बस।

या इससे भी कहीं ज़्यादा
मुझे जानना चाहिए था
जो सामान्यतः तुम एक पुरुष को
नहीं बता सकती
उसकी बनी हुई मानसिकता के कारण
इतने दिनों के प्यार के बाद भी।

पिछली रात को तुम्हारे बुखार की गर्मी और
चूल्हे के ताप के संघर्ष के बाद भी
मुझे केवल स्वाद ही पता चल सका,
उपहार में लाल चटख रंग की साड़ी
जो तुम पर मुझे अच्छी लगती है
क्या मैं जान पाया इस चटख से इतर भी।

ये रंग और स्वाद जो केवल मेरे लिए थे
क्या मैं जान पाया इससे भी इतर
तुम्हारे बारे में
इतने दिनों के प्यार के बाद भी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें