यदुवंश प्रणय

कविता
इतने दिनों के प्यार के बाद भी
जनपथ पर साइकिल
मेरी बस्ती के सवाल