अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.06.2016


सूरज तुम पलायन नहीं कर सकते...

मैं जानता हूँ सूरज
कि तुम संशय और समस्याओं से
आँखें चुराकर स्वयं को असत्य रूपी
अंधकार के हवाले कभी नहीं कर सकते
क्योंकि तुम जानते हो कि
सत्यप्रकाश को छुपाना असत्य रूपी
अंधकार के सामर्थ्य की बात नहीं...

मैं जानता हूँ सूरज
तुम पलायन नहीं कर सकते
छुप नहीं सकते अपने विरोधी से साँठ-गाँठ कर
क्योंकि तुम जानते हो
कि तुम अकेले नहीं हो
तुम्हारे पीछे है गतिमान संपूर्ण सृष्टिचक्र...

भले यह संभव है कि
संशय और भ्रम की काली चादर
तुम पर हावी होकर
पल दो पल के लिए तुम्हें ढँक ले
किंतु मैं जानता हूँ
जीवन चक्र कभी रुक नहीं सकता
तो फिर संचालनकर्ता भला कैसे रुक सकता है!

शायद इसलिए मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ सूरज
आश्वस्त हूँ मैं और बेसब्री से प्रतीक्षारत भी
तुम्हारे निकलने का
तुम्हारे पुनः मेरे विश्वास के आसमान में निकलने का...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें