अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.03.2017


जीवन का गणित

एक समय हम सभ्य नहीं थे
फिर भी ढँकते ये तन
पत्तियों और जानवरों की खालों से।
लिपिबद्ध एक भाषा न होने के बावजूद
टूटी-फूटी बोलियों और इशारों में ही सही
समझते थे हम दूसरों की आँखों की भाषा
उनकी बातों तकलीफ़ों को बिल्कुल सही-सही...
रहते थे तत्पर हमारे दोनों हाथ
किसी के सुख-दुःख और हेर-ग़ैर में वक़्त-बेवक़्त...
किताबें-स्कूल और सीखने-सिखाने के
कोई साधन न होने के बावजूद
जानते थे हम -
अनुभूति, अपनापन और कृतज्ञता की परिभाषाएँ...
आज हम सभ्य हैं
किन्तु हम तन नहीं ढँकते
आज एक दूसरे की मदद करना तो दूर
काटते हैं एक-दूसरे की जड़
दूसरों की सुखों से घटता है हमारी ख़ुशी का ग्राफ
और ख़ुशगवार हो जाता है हमारे मौसम का मिज़ाज
पड़ोसी को विपत्तियों में घिरा देखकर...
सीखने-सिखाने के तमाम साधनों के बावजूद
हम नहीं जानते आज
सदाचार, नैतिकता और भाईचारे का अर्थ...
आज हमारा हृदय
दुःखी नहीं होता दूसरों की दुःखों-तकलीफ़ों से
न ही पिघलता है हमारा दिल
प्रेम स्नेह की ऊष्मा से...
आज लगे हैं हम सुलझाने में
अपने जीवन का गणित
जिसमें हो अपने हिस्से में सिर्फ़ लाभ ही लाभ...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें