अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.20.2017


इच्छाओं की गगरी

यह मेरा है
यह तेरा है
मोह माया का फेरा है।

जीवन तो
चंद दिनों का
डेरा है।

संबंधों
और रिश्तों का
यह तो बस एक
घेरा है।

लाख लिखे कोई
जीवन का काग़ज़
रहता कोरा है।

इच्छाओं की गगरी
भरे कैसे
यही तो बस
एक फेरा है।

इश्क़-जुनून और
रिश्तों की बगिया में मँडराता
स्वार्थ का भौंरा है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें