अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.14.2015


अरे कोई तो बतलाओ

किसने किया श्रृंगार प्रकृति का
अरे, कोई तो बतलाओ!

डाल-डाल पर फूल खिले हैं
ठण्डी सिहरन देती वात
पात गा रहे गीत व कविता,
कितने सुहाने दिन और रात
मादकता मौसम में कैसी,
अरे, कोई तो समझाओ।

खेत-खेत में बिखरा सोना
कौन लुटाये बन दातार
रसबन्ती, गुणबन्ती देखो
धरा करे किसकी मनुहार
रंग-महल सी बनी झोंपड़ी,
कारण कैसा, समझाओ।

स्वागत में किसके ये मन
खड़ा हुआ है बन के प्रहरी
उजड़ा-उजड़ा सँवरा फिर से
बात समझ ना आये गहरी
मेरे मन की, तेरे मन की,
गुत्थी अब तो सुलझाओ।

भ्रमरों का मधुरिम गुंजन
और तितली का मँडराना
चप्पा-चप्पा बरसे अमृत
नहीं कोई भी बिसराना
आया है 'ऋतुराज' आज अब,
स्वागत में कुछ तो गाओ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें