विशाल शु्क्ल

कविता
जगमग करता दीप
प्रेम का रंग
हास्य-व्यंग्य
राधे ने जब
क्षणिकाएँ