विशाल शाक्य

कविता
पूछो पथराई आँखों से