विनोद कुमार दवे

दीवान
काँटे पयम्बरों की तक़दीर में आते बहुत हैं
वो उलझा हुआ सवाल थी