अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.02.2014


स्‍टेयरिंग थामती उँगलियाँ

 हौसले की आँच से
संकोच के पहाड़ गला रही थी
साधारण-सी थी वो लड़की जो
कार चला रही थी

मैंने देखा-
कुण्‍ठाओं ने इसे सदियों चलाया है
और समय का स्‍टेयरिंग
एक अरसे बाद
अब इसके हाथों में आया है

न कोई कसम न कोई वास्‍ता
अपने पाँव
अपना रास्‍ता
अपनी हार है अपनी जीत
स्‍टेयरिंग थामती इसकी उँगलियाँ हैं ये
या बाँसुरी के शून्‍यों में सुर भरता
संगीत

आईना देखते पीढ़ि‍याँ गुज़र गईं
... अब इसने ख़ुद को पहचाना है
इन हाथों से स्‍टेयरिंग नहीं छूटने वाला
इसे तो जहाँ पहुँचना है
उससे भी आगे जाना है!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें