अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.29.2014


याद

रोटी जो दूर ले जाती है
ख़ुशबू उनकी लौट आती है
कुछ सफेद बुगलों की तरह
उतर आये मेरे घर की छत पर
सुनाने लगे अपनी
छोटी-छोटी कविताएँ
फूलों की, पानी की
टीलों की, नानी की
कुछ परीकथाएँ भी ले आये थे
संग अपने
खूब हिल हिलकर गुंजार रहे
सब मिलकर
कुछ दिनों की ही तो बात है
थोड़ा जी बहल जायेगा
फिर मौसम बदल जायेगा
कुछ न साथ आयेगा
हवाओं का रुख बदल जायेगा
आओ, लौट आओ फिर
रूखी-सूखी खा लेंगे
जीवन यूँ ही कट जायेगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें