अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.29.2014


जब भी बोल

अरे! कुछ तो बोल
जब भी बोल
जनहित में बोल

किसानों की बोल
मजदूरों की बोल
अबलाओं की बोल
कृशकायों की बोल
भूखे-नंगों की बोल
जब भी बोल
जनहित में बोल

लूटतों को बचा
गिरतों को उठा
काम आगे बढ़ा
पूरी कर राज की मंशा
कर अभागों की अनुशंसा
जब भी बोल
जनहित में बोल

देखना एक दिन
न पद होगा
न होगा राज
मन की मन में रह गई
तो कब करेगा काज
जब भी बोल
जनहित में बोल


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें