विमल शुक्ला "विमलेश"

कविता
आम आदमी
प्रकृति
मेरा श्रम ही मेरा धन है
मैं