अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.04.2016


शहर

इस शहर में रहने वाले लाखों चेहरे
सब एक से नज़र आते हैं मुझे
नहीं किसी का जैसे कोई वज़ूद
बस चल रहें हैं किसी मशीन की तरह
सब एक से

फ़ुर्सत कहाँ कि मिलें, बैठें, बात करें
हाल पूछें, बात सुनाएँ, दुःख रोएँ
लोग नहीं यहाँ हर गली-नुक्कड़ पे
इश्तिहार मिलते हैं

हर चीज़ का इश्तिहार है यहाँ
मकान, गाड़ी, तेल, साबुन
फ़ोन, डाइपर, कंडोम, वियाग्रा
नहीं है तो बस इश्तिहार इंसानियत का

सब कुछ तो है इस शहर में
फिर भी ये ज़िंदा लोगों का शहर नहीं लगता
यहाँ के रिश्ते इंसानियत के रिश्ते नहीं लगते
यहाँ के न सूरज मे गर्मी है, न चाँद में सुकून


लौटना भी चाहूँ तो नामुमकिन सा लगता है
बन गया हूँ मैं भी एक मशीन का गुमनाम सा पुर्ज़ा
जो चला रहा है इस मशीन को बिना किसी एहसास के
और जो फेंक दिया जाएगा कचरे में ख़राब होने पर


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें