अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
तुम अपना दण्ड स्वयं चुन लो
Tum Apanaa DaND Svyam Chun Lo 
विजय विक्रान्त

Vijaya  Vikarant


कुंज बिहारी की घी की दुकान थी। काम बहुत अच्छा चल रहा था।
             Kunj Bihaaree kee ghee kee dukaan thee. Kaam bahut achchhaa chal rahaa thaa.
खूब आमदनी होती थी। कुछ दिनों बाद कुंज बिहारी को लालच आगया और
Khoob aamadanee hotee thee. Kuchh dinon baad kunj Bihaaree ko laalach aagaya aur
जल्दी जल्दी धन कमाने की कामना से उसकी नियत खराब होने लगी और
 jaldee jaldee dhan kamaane kee kaamnaa se usakee niyat kharaab hone lagee aur
उस ने घी में मिलावट करनी शुरू कर दी। मिलावटी घी बेचने पर उस की
 us ne ghee mein milaavaT karnee shuroo kardee. MilaavaTi ghee bechne par us ki
कमाई और भी बढ़ गई। लोग शिकायत करते तो वो ये कहकर टाल देता
kamaaee aur bardh gaee. Log shikaayat kar te to vo ye kah kar Taal deta
कि भाई घी में कोई ख़राबी नहीं है, शायद आपके मुँह का स्वाद बदल गया
 ki bhai ghee mein koi kharaabee nahin hai, shaayad aap ke munh ka swaad badal gaya
है। ये सिलसिला यों ही चलता रहा। मिलावटी घी बिकता रहा, आमदनी
 hai. Ye silasila yon hee chalta raha. MilaavaTee ghee biktaa raha, aamdanee
बढ़ती गई, लोग शिकायत करते रहे और कुंज बिहारी कोई न कोई बहाना
bardhatee gaee, log shikaayat karte rahe aur Kunj Bihaaree koi na koi bahaana
बनाता रहा।
 banaata raha

फैलते फैलते ये बात राजा तक भी पहुँची। राजा ने अपने मंत्री को घी
           Phailte phailte ye baat raja tak bhee pahunchee. Raja ne apne mantri ko  ghee
का नमूना लाने को कहा। मंत्री ने भेस बदला और जाकर एक किलो घी ले
ka namoona laane ko kaha. Mantri ne bhes badla aur jaa kar ek kilo ghee le
आया। घर आकर देखा तो पता चला कि घी तो कदापि खाने के लायक नहीं
aaya. Ghar aakar dekhaa to pata chala ki ghee to kadaapi khaane laayak nahin
है। उस ने जाकर राजा को सारी खबर दी।

hai . Us ne jaa kar raja ko saaree khabar dee.

राजा ने अपने सिपाहीयों को भेज कर कुंज बिहारी को भरे दरबार में
          Raja ne apne sipaahiyon ko bhej kar Kunj Bihaaree ko bhare darbaar mein
बुलाया। जैसे ही कुंज बिहारी दरबार में आया
, राजा ने उस से कहा –
bulaya. Jaise hee Kunj Bihaaree darbaar mein aayaa, raja ne us se kaha-

कुंज बिहारी, ये साबित हो गया है कि तुम ने घी में मिलावट कर के   Kunj Bihaaree, ye saabit ho gaya hai ki tum ne ghee mein milaavaT kar ke
जनता को बहुत बहुत ठगा है। तुहारे इस गन्दे काम के लिए मैं तुम्हें सज़ा
janta ko bahut bahut Thagaa hai. Tumaahre is gande kaam ke liye main tumhen saza
देता
हूँ कि तुम या तो अपनी दुकान का आधा किलो घी पी लो या फिर दस
 deta huun ki tum ya to apni dukaan ka aadha kilo ghee pee lo ya phir das
कोड़े
खालो या फिर सौ अशर्फ़ीयाँ जुर्माने में  दो।"
 korrhe khaalo yaa phir sau asharfiyaan jurmaane mein bhar do. "

 

कुंज बिहारी ने सोचा कि अरे जब सारा शहर मेरे घी का प्रयोग कर

      Kunj Bihaaree ne sochaa ki are jab sara Shahar mere ghee ka prayog kar
सकता है तो मुझे आधा किलो पीने में क्या मुसीबत हो सकती है। उस ने
sak ta hai to mujhe aadha kilo peene mein kyaa museebat ho sakatee hai. usane
राजा से कहा कि वो अपनी दुकान का घी पिएगा। आधा किलो घी लाया
rajaa se kahaa ki vo apanee dukaana kaa ghee piyegaa. aadhaa kilo ghee laayaa
गया। जैसे ही कुंज बिहारी ने उसे पीना शुरू किया उसे तो उल्टी आने लगी।
gayaa. Jaise Kunj Bihaaree ne use peenaa shuruu kiya use to ulTee aane lagee.
बहुत प्रयत्न किया और आँखें मीच कर
पीता गया। बरतन अभी खाली नहीं
Bahut prayatn kiyaa aur aanken meech kar peetaa gayaa. Baratan abhee khaali nahin
हुआ था और उस से और घी पिया नहीं जा रहा था। जब वो और अधिक
hua tha aur us se aur ghee piya nahin ja raha tha. Jab vo aur adhik
नहीं पी सका तो तंग
आकर उसने राजा से कहा कि हे राजन, मैं दस कोड़े 
nahin pee sakaa to tang
aakar usne raja se kaha ki he rajan, main dus korhe

खाने को तैयार हूँ। जब एक के बाद एक कोड़े पड़ने लगे तो कुंज बिहारी की
khaane ko taiyaar huun. Jab ek ke baad ek korhe parhane lage to Kunj Bihaaree kee
आठ कोड़ों के बाद सहन करने की शक्ति ख़त्म हो गई। वो हाथ जोड़ कर
aaTh korhon ke baad sahan karne kee shaktee khatm ho gaee. Vo haath  jorrh kar
राजा से विनती करने लगा कि हे राजन आप मुझे मेरे
करे पर माफ़ कर दें।
aja se vinatee karne laga ki he rajan aap mujhe mere kare par maaf kar den.
मैं सौ अशर्फ़ियाँ जुरमाने की आप के कोष में
अभी जमा कर देता हूँ।
main sau asharfiyaan juramaane kee aap ke kosh mein abhee jamaa kar detaa hun

 

Difficult
Words
Meaning Difficult
Words
Meaning Difficult
Words
Meaning
Aakar (when)reached Aamdanee  earnings Accha Chal
raha tha
 his business
was doing well
Asharfiyaan Gold Coins Badh increased Badal change
Bahana excuse Bhej sent Bhes disguise
Chun Lo Choose/ Pick DaND Punishment Dekha saw
Dhan money Dukaan  Shop Gande dirty
Ghee Pure butter Jaldi fast /quick Jurmaane penalty
Kaam Work Kamaane earn Kharab bad
Khoob many/ lots Korhe Lashes Lalach Greed
Log People Maaf pardon Mantri minister
MilaavaT mixing impurities (in the ghee to make it more in quantity) Munh mouth Museebat problem
Namoona sample Niyatn intentio Pahunche ereached
Phailte (news) spread Piyega will drink Prayog use
Saza punishment (Urdu) version Shikayat complaint Shuroo start
Silsila thing continued Swaad taste Taal avoid
Taiyaar ready Tum  You UlTee vomiting



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें