अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.31.2015

 
अभी नहीं - जाको राखे साईंयाँ, मार सके न कोए 
विजय विक्रान्त

जीवन की कुछ घटनाएँ ऐसी होती हैं जो अपनी छाप छोड़ कर चली तो जाती हैं मगर जब जब उनकी याद आती है तो एकाएक कंपकपी सी उठने लगती है। मेरे साथ भी कई बार कुछ ऐसा ही हुआ। हर बार लगता था कि जीवन का बस अन्त हो गया है मगर हर बार कहीं से यह आवाज़ आती थी - अभी नहीं... अभी नहीं... अभी नहीं...

कुएँ में साँप - 1953

अम्बाले में अपने बाग में पिता जी ने कुआँ लगवाने का निश्चय किया। भूमि पूजन के बाद एक गोल गढ़ा खोदा गया और उसमें पहिए जैसा लकड़ी का चाक डाला गया। चाक पर ईंटों से कुएँ की चिनाई होने लगी। जब यह ढाँचा कोई तीस फ़ुट का हो गया तो उसके ऊपर बहुत सा वज़न रक्खा गया। नीचे जाकर मज़दूर मिट्टी खोदते थे और उसको चरखी द्वारा बाहर फेंका जाता था। इस तरह से कुआँ धीरे धीरे नीचे धंसत जाता था। पानी के दर्शन होने के बाद भी यह सिलसिला चलता रहा और कुआँ जल्दी जल्दी नीचे जाने लगा।

छुट्टी का दिन था। मैंने साईकिल उठाई और बाग पर जा पहुँचा। मज़दूरों को काम करते देख कर मुझे भी कुएँ में उतरने की इच्छा हुई। माधो के बार बार मना करने पर भी में नीचे उतर गया और मज़दूरों के साथ मिट्टी खोदनी शुरु कर दी। आधा घण्टा रह कर कुएँ से बाहर आ गया और फिर एकदम घर की ओर प्रस्थान किया।

इसी बीच पिताजी को भी मेरी इस हरकत की खबर मिल गई। शाम को डाँट तो जो पड़ी सो पड़ी, उसके साथ यह भी पता चला कि मेरे बाहर आने के एक मिनट बाद ही एक बहुत बड़ा साँप निकला और उसने एक मज़दूर को डस भी दिया था। मज़दूर को तुरन्त हस्पताल ले जाया गया और वो मरते मरते बचा।

सर्प रूप में आए थे, बनकर काल महान,
अभी नहीं, कह चल दिये दान रूप दे प्राण।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें