अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.29.2014


मौसम

"आज मौसम कितना प्यारा है
कितनी सुहानी हवा चल रही है" मैंने कहा
"मुझे सर्दी लग रही है" उसने कहा
और उठ कर खिड़की बन्द कर दी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें