अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
सब खामोश हैं यहाँ कोई आवाज नहीं करता
डॉ. विजय कुमार सुखवानी

 सब खामोश हैं यहाँ कोई आवाज नहीं करता
सच कहकर किसीको कोई नाराज नहीं करता

वतन पर मर मिटने का जज़्बा तो दरकिनार
वतन परस्तों पर यहाँ कोई नाज नहीं करता

इस कदर बिका है इंसान दौलत के हाथों कि
किसी मुफ़्लिस का चारागर इलाज नहीं करता

हर हुकूमत की हद ज़िस्म और ज़ेहन तक है
अब किसी के दिल पर कोई राज नहीं करता

हर शख्‍़स जी रहा है यहाँ अपनी ही खातिर
किसी के लिये कुछ भी कोई आज नहीं करता

अपने हों या पराये सबसे मिलकर देख लिया
अब किसी से मिलने का मिजाज़ नहीं करता

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें