अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.04.2014


पूरे चाँद की रात

आज फिर पूरे चाँद की रात है;
और साथ में बहुत से अनजाने तारे भी हैं...
और कुछ बैचेन से बादल भी हैं ..

इन्हें देख रहा हूँ और तुम्हें याद करता हूँ..

ख़ुदा जाने,
तुम इस वक़्त क्या कर रही होगी…..

ख़ुदा जाने,
तुम्हें अब मेरा नाम भी याद है या नहीं..
आज फिर पूरे चाँद की रात है !!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें