अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

परायों के घर 
विजय कुमार सप्पत्ति


कल रात दिल के दरवाजे पर दस्तक़ हुई;
नींद की आँखों से देखा तो,
                 तुम थी,
                        मुझसे मेरी नज़्में माँग रही थी,
उन नज़्मों को, जिन्हें सँभाल रखा था, मैंने तुम्हारे लिए,
एक उम्र भर के लिए ...
आज कहीं खो गई थी, वक़्त के धूल भरे रास्तों में ......
शायद उन्हीं रास्तों में ..
जिन पर चल कर तुम यहाँ आई हो....
             क्या किसी ने तुम्हें बताया नहीं कि,
                         परायों के घर भीगी आँखों से नहीं जाते.....


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें