अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

आया नव वर्ष आया  
विजय कुमार सप्पत्ति


आया नव वर्ष, आया आपके द्वार
दे रहा है ये दस्तक, बार बार !

बीते बरस की बातों को, दे बिसार
लेकर आया है ये, खुशियाँ और प्यार !
खुली बाहों से स्वागत कर, इसका यार
और मान, अपने ईश्वर का आभार !

आओ, कुछ नया संकल्प करें यार
मिटायें, आपसी बैर, भेदभाव, यार !
लोगों में बाँटें, दोस्ती का उपहार
और दिलो में भरे, बस प्यार ही प्यार !

अपने घर, समाज, और देश से करें प्यार
हम सब एक है, ये दुनिया को बता दे यार !
कोई नया हुनर, आओ सीखें यार
ज़माने को बता दें, हम क्या हैं यार !

आप सबको, है विजय का प्यारा सा नमस्कार
नव वर्ष मंगलमय हो, यही है मेरी कामना यार !

आया नव वर्ष, आया आपके द्वार
दे रहा है ये दस्तक, बार बार !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें