अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

आँसू 
विजय कुमार सप्पत्ति


उस दिन जब मैंने तुम्हारा हाथ पकड़ा,
तो तुमने कहा..... नहीं..
और चंद आँसू जो तुम्हारी आँखों से गिरे..
उन्होंने भी कुछ नहीं कहा... न तो नहीं ... न तो हाँ ..
अगर आँसुओं कि जुबान होती तो ..
सच झूठ का पता चल जाता ..
जिंदगी बड़ी है .. या प्यार ..
इसका फैसला हो जाता...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें