अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.05.2015


सच कहता हूँ

सच कहता हूँ, पर कहने से डरता भी हूँ।

कुछ दीवारें चुपके–चुपके
अनुमानों से छुपते–छुपते
कानाफूसी खेल न खेलें
हाँ, यह सोच सिहरता भी हूँ।
सच कहता हूँ, पर कहने से डरता भी हूँ।

सत्ता रोज बदलती भाषा
गढ़ती नई–नई परिभाषा
राजनीति के गलियारों में
गिरता और सँभलता भी हूँ।
सच कहता हूँ, पर कहने से डरता भी हूँ।

कुछ मायावी रिश्ते–नाते
मन में आस जगाते जाते
अहसासों के महाभँवर में
फँसता और निकलता भी हूँ।
सच कहता हूँ, पर कहने से डरता भी हूँ।

अरमानों की गहमागहमी
मर्यादाएँ सहमी–सहमी
मध्यस्थों की दोहरी बातें
सुनकर ज़रा ठहरता भी हूँ।
सच कहता हूँ, पर कहने से डरता भी हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें