विजय प्रताप "आँसू"

कविता
ये निरा अकेलापन
शब्द गुम होते गए
सच कहता हूँ