वेणी शंकर पटेल "ब्रज"

दीवान
आजकल
ख़त लिखना तुम
जंग छोड़कर जो भागे थे...
लुटती है रोज़ प्यार की बारात देखिये