अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.30.2016


ब्राईड ग्रूम बनाम ब्राईड ब्रूम

20 नवम्बर 2002 को हमारे पुत्र आशीष की शादी थी। उसकी बहिन, हमारी बिटिया अपने पाँच साल के बेटे गोविंद तथा आठ वर्ष की बेटी वसुधा के साथ बनारस आई।

जयमाल के बाद जब दुल्हा-दुल्हिन स्टेज पर बैठे थे तब आशीष के दोस्तों को शरारत सूझी। उन्होंने वसुधा को बहला-फुसला कर यह कहने को तैयार कर लिया कि स्टेज पर बैठी अपनी मामी से जा कर कहे कि "किस द ब्राईड ग्रूम (Kiss the Bride groom)"। एक मित्र उसे स्टेज पर ले गया। जा कर बोला भाभी जी ये कुछ कहना चाहती है। वसुधा घबरा गई और बोली "प्लीज़ किस दा ब्राईड ब्रूम।(Kiss the Bride broom)"। आशीष ने घूर कर दोस्तों को देखा।

दोस्त तो तेज़ी से स्टेज से भागा। बेचारी वसुधा समझ ही न पाई कि क्या हुआ?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें