अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
मनोकामना..मंगलकामना..शुभकामना
उमेश ताम्बी

धन्य है भाग हमारे जो हमने आपको जाना
न होता माझी साथ तो ना मिल पता ठिकाना

नववर्ष की शुभ बेला में सरल है मन को समझाना
जो हो ईश्वर का साथ तो न कभी घबराना

अब तक तो जीवन यूँही बीता बस खाना और कमाना
आगे भी मिलाता रहे हमे साधन नया पुराना

परिवार और मित्र गण सभी रहे स्वस्थ..सम्पन्न..आत्मनिर्भर
दीपोत्सव की - नव वर्ष की यही हमारी

मनोकामना..मंगलकामना..शुभकामना


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें