अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

सुबह का अख़बार
तेजेन्द्र शर्मा


सुबह का अख़बार
दोपहर से शाम तक
रद्दी बन जाता है.
और फिर एक दिन
वो रद्दी का ढेर
आवाज़ लगा कर
कहता है,
कि मुझे उठाओ
और बेच आओ ! 

तुम्हारी याद की इंतहा
ये है
कि हीरे से काँच तक
सोने से पीतल तक
और रद्दी से अनमोल तक
हर शै से जुड़ी है
तेरी याद। 

मुझे याद है मेरी आदत
मेरे साथ है मेरी आदत
रद्दी के ढेर को उठाना
बैठक के कोने में रखना
और भूल जाना -
तुम्हारा उलाहना,
तुम्हारा डाँटना। 

रद्दी का ढेर आज भी है
बैठक का कोना आज भी है
मेरा भूलना आज भी है 
मगर कहाँ गया
तुम्हारा उलाहना,
तुम्हारा डाँटना,
तुम्हारा प्यार,
तुम स्वयं!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें