अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

सो नहीं मैं पाता हूँ
तेजेन्द्र शर्मा


डरा डरा सा मैं रातों को जाग जाता हूँ
नींद आती है मगर सो नहीं मैं पाता हूँ। 

सवाल ये नहीं ये शहर क्यों डराता है
सवाल ये है कि मैं क्यों भटक सा जाता हूँ। 

ये शहर मेरा है समझो ना इसे बेगाना
मगर मैं क्यों यहां का शहरी ना बन पाता हूँ। 

जो लोग गांव की मिट्टी को यहां लाए हैं
बदन में उनके अपनेपन की महक पाता हूँ। 

जनम जहां हुआ क्या देश वही होता है
करम की बात को मैं क्यों समझ ना पाता हूँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें