तरुण शर्मा


दीवान

मेरी मज़ार पे एक चिराग़ ...