अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.22.2008
 
मुसलमान कहता मैं उसका हूँ
डा० (श्रीमती) तारा सिंह

मुसलमान कहता मैं उसका हूँ
हिन्दू कहता मैं उसका हूँ

या ख़ुदा तुम बता क्यों नहीं देते
आखिर हिस्सा मैं किसका हूँ

फ़लक में फँसी है जान मेरी
इन्सान हूँ या मैं फ़रिश्ता हूँ

मंदिर का हूँ या मसजिद का हूँ
राम हूँ, रहीम हूँ या मैं ईशा हूँ

शमां चुप है, आईना परेशां है
आशिक़ शिशदार है, मैं किसका हूँ

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें