अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.22.2008
 
मैं काला तो हूँ, आप जितना उतना नहीं
डा० (श्रीमती) तारा सिंह

मैं काला तो हूँ, आप जितना उतना नहीं
झूठा भी हूँ, आप जितना उतना नहीं

हौसले भी बुलंद हैं मेरे, आसमां को
छू लूँ, आप जितना उतना नहीं

मैं भी आस्तिक हूँ, मगर मूर्ति पूजन में
विश्वास आप जितना उतना नहीं

मौत, मौत है; मौत से डरता मैं भी
मगर डरते आप जितना उतना नहीं

सच है, हस्त जन्नत की बहारों में बंद है
मगर सोचते आप जितना उतना नहीं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें