अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.14.2007
 
हृदय मिले तो मिलते रहना अच्छा है
डा० (श्रीमती) तारा सिंह

हृदय मिले तो मिलते रहना अच्छा है
वक्त के संग - संग चलते रहना अच्छा है

ग़म का दरिया अगर ज़िन्दगी को समझो
धार के संग - संग बहते रहना अच्छा है

ख़ुदा मदद करता उनकी जो ख़ुद की करते
हिम्मत से ख़ुद बढते रहना अच्छा है

अगर विश्व है, मंदिर-मस्जिद के अधीन
नियमित मंत्रों का जपते रहना अच्छा है

ठीक नहीं नज़रों का फ़ासला 'तारा' से
चाँद अंजुरी में उगते रहना अच्छा है

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें