डॉ. सुषमा गुप्ता

कविता
अस्तित्व
काँटों से यारी
तड़पन
मदर स्पैरो
मन का चोला