अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.05.2016


उस पार का जीवन

मृत्यु के उस पार
क्या है एक और जीवन आधार।
या घटाटोप अन्धकार।
तीव्र आत्म प्रकाश।
या क्षुब्ध अमिट प्यास।
शरीर से निकलती चेतना।
या मौत सी मर्मान्तक वेदना।
एक पल है मिलन का।
या सदियों की विरह यातना।
भाव के भँवर में डूबता होगा मन।
या स्थिर शांत कर्मणा।
दौड़ता-धूपता जीवन होगा।
या शुद्ध साक्षी संकल्पना।
प्रेम का उल्लास अमित।
या विरह की निर्निमेष वेदना।
रात्रि का घुटुप तिमिर है।
या हरदम प्रकाशित प्रार्थना।
है शरीर का कोई विकल्प।
या है निर्विकार आत्मा।
है वहाँ भी सुख दुःख का संताप।
या परम शांति की स्थापना।
है वहाँ भी पाप पुण्य का प्रसार।
या निर्द्वंद्व अंतस की कामना।
होता होगा रिश्तों का रिसाव।
या शाश्वत प्रेम की भावना।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें