सुशील कुमार

कविता
भूख की कालिमा भारी है