अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.06.2012


तंत्र का जन

मरना होगा
रोज़ - रोज़
जनतंत्र में
तंत्र का जन बन कर

जन का तंत्र के बन जाने तक |


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें