अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
05.06.2012


सलीब

दिशाओं के अहंकार को ललकारती भुजाएँ
और
चीखकर बेदर्दी की इन्तहां को चुनौती देतीं
हथेलियों में धँसीं कीलें

एक-एक बूँद टपकता लहू
जो सींचता है उसी ज़मीन पर
लगे फूल के पौधों को
जहाँ सलीब पर खड़ा है सच
जब भी लगता है कि
हार रहा है मेरा सच
सलीब को देखता हूँ

लगता है कोई खड़ा है मेरे लिए
झूठ के ख़िलाफ़


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें