अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
09.06.2014


जो कहता था

जो कहता था
मेरे पास कुछ नहीं है
असल में उसके पास
सब कुछ था

जो कहता था
मैं पूरब दिशा में
जा रहा हूँ
दरअसल वह
पश्चिम की ओर
जा रहा होता था

जो कहता था
मैं पीता नहीं हूँ
उसी के घर से
शराब की सबसे ज़्यादा
ख़ाली बोतलें निकलती थीं

जो इलाक़े के बच्चों में
सबसे ज़्यादा टाफ़ियाँ बाँटता था
वही पकड़ा गया बच्चों के
यौन-शोषण के आरोप में

जो कहता था
लोकतंत्र में हमारी
गहरी आस्था है
वही बन बैठा
सबसे बड़ा तानाशाह

जो पहनता था
सातों दिन सफ़ेद वस्त्र
उसी का मन
सबसे ज़्यादा काला निकला

जो करता था
सबसे ज़्यादा पूजा-पाठ
जो पहनता था
तीसों दिन गेरुए वस्त्र
जो अपने उपदेशों में
नारी को 'देवी' बताता था
वही पकड़ा गया
एक अबला के
शील-भंग के आरोप में

जो आदमी ख़ुद को
गाँधीजी का सबसे बड़ा
भक्त बताता था
जो दिन-रात
'अहिंसा' का जाप
करता रहता था
अंत में वही हत्यारा निकला


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें