अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
09.26.2014


फ़र्क

मैंने बर्फ से
हाथ मिलाया
सुन्न पड़ गईं
मेरी उँगलियाँ

मैंने आग से
हाथ मिलाया
जल गईं
मेरी उँगलियाँ

मैंने राजनेता से
हाथ मिलाया
मेरा हाथ ही
ग़ायब हो गया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें