अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.20.2016


जाने क्यूँ

किसी दर्द से कहो यूँ न बहता रहे,
निश्छल झरने सा यूँ न झरता रहे।
तेरे होने से मुझको बहुत आस है,
कुछ तो है जो मेरे बहुत पास है।
जब भी तनहा हुआ मैं रोता रहा,
तेरे आँचल के साये में सोता रहा।

जब भी गुज़री है शाम तेरी यादों भरी,
तेरी बाँहों में आयी नज़र जन्नत मेरी।
दूर ही सही पर मेरे ख़्वाबों में तू,
हर लम्हा मेरी साँसों के है रागों में तू।

जाने क्यूँ हर घड़ी याद तेरी ही आती रही,
जाने क्यूँ उम्र भर ज़िन्दगी सताती रही.
मेरे दर्द से कह दो कोई यूँ न बहता रहे,
निर्झर झरने सा यूँ ही न झरता रहे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें