अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.20.2016


एक ख़त

आरम्भ...
प्रिय लिखूँ
या फिर प्रियतमा कहूँ
बेवफ़ा लिख नहीं सकता
वफ़ा तुमसे ही तो सीखी है.....!

संघर्ष....
तपिश ज़िंदगी की
तो कभी जला न सकी
तेरे वादों से जितना जला हूँ
मैं तो नेमत थी क़ुदरत की
आसमां के तले ही पला हूँ.....!
भूख मिटती अगर रोटी से
कोई भूखा न होता
छलावों भरी इस दुनिया में
काश धोखा न होता .....!

उपसंहार....
वे गलियाँ
वो शहर आज भी वैसे होंगे
यादों के यादों से
बदन वैसे ही मिलते होंगे.....!
दिए यादों के बुझा आया हूँ
छोड़ ये ख़त तेरे लिए


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें